Sunday, December 26, 2010

अलविदा 2010......स्‍वागत 2011....!!!

किससे गिला...किससे और कैसी उम्‍मीदें

तो सन २०१० हमसे हाथ छुड़ा कर विदाई मांग रहा है। जब आया था तो कोई बहुत बड़ी उम्मीदें नहीं बांधी थी हमने इससे। हां, मन में इच्छा जरूर थी कि काश यह साल पिछले गुजरे सालों से बेहतर साबित हो। घृणा, नफरत,हिंसा-प्रतिहिंसा, आतंकवाद, अलगाववाद से कुछ तो मुक्ति मिले हमें। वैमनस्य की काली आंधी कहीं तो जाकर रुके। तरक्की की होड़ में शामिल होकर कहीं भी, कुछ भी करने को आतुर इंसान एक क्षण रुक कर कुछ तो सुस्ताये, कुछ तो सोचे। एक-दूसरे को खूब दुआएं-शुभ कामनाएं दीं। एस.एम.एस किए, कार्ड भी भेजे लेकिन जैसी औपचारिकताएं , वैसे ही परिणाम भी मिले। कुल मिला कर किसी तरह यूं ही गुजर सा गया यह साल।
हां! थोड़ी और तरक्की कर ली हमने। भ्रष्टाचार के मामलों में नए मानदंड स्थापित किए। लूट, हत्या, बलात्कार के मामलों में भी नए नए रिकॉर्ड बनाए। निरीह औरत की हत्या कर उसकी लाश के टुकडो को तंदूर से डीप फ्रीजर तक पंहुचा दिया; और इसमें न हमारे हाथ कांपे न ही आत्मा। राजनेताओं ने घृणा की खाईयों को पाटने की जगह और चौड़ा करने का अपना दायित्व बखूबी निभाया। मंहगाई और बेरोजगारी जैसी समस्याओं पर राजनीतिक विचारहीनता और संवेदनशून्यता में और बढ़ोतरी की । अमीर और अमीर हुए; गरीब और गरीब। स्विस बैंकों में हम भारतियों का काला धन कुछ और बढ़ गया। साथ ही हर भारतीयों पर विदेशी कर्ज की मात्रा भी और बढ़ गई। दुनिया की तीसरी बड़ी महाशक्ति के रूप में उभर रहा भारत भुखमरी से लड़ने के मामले में ८४ देशों की सूची में ६७वें स्थान पर आ गया। बाल मृत्‍यु दर के मामले में हम पहले से ही सबसे ऊंची पायदान पर हैं, निरक्षता के मामले में दुनिया के ३५% हो गए। ग्लोबल पीस इंडेक्स में छह और पायदान फिसलकर १२८वे स्थान पर आ गए। यह तरक्की थोड़ी है क्या खुश होने के लिए! यूं खुश होने के लिए कुछ बातें और भी हैं। शायद इसलिए कुछ और भी ज्यादा क्योंकि ये हमारे खंडित अभिमान को सहलाने का थोडा बहुत माद्दा भी रखती है। मसलन - विश्‍वमहाशक्ति अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा की भारत यात्रा। उल्लेखनीय है कि जहां पहले अमेरिका की छवि 'दाता' की रही थी वहीं ओबामा की यात्रा के समय भारत और अमेरिका के सम्बन्ध बराबरी के स्तर पर प्रगाढ़ होते दिखे। भारत के अपने स्वार्थ हैं तो अमेरिका भी अपनी अर्थव्यवस्था में आए ठहराव को तोड़ने के लिए भारतीय बाजार में अपनी पहचान बढ़ाने को लालायित है और अपने यहां भारत के निवेश की आवश्यकता अनुभव कर रहा है। इसके अतिरिक्त विश्व और एशिया की अन्य महाशक्तियों जैसे - ब्रिटेन, जर्मनी ,पोंलेंड, रूस और अभी हाल ही में चीन के राष्ट्राध्यक्षों की भारत यात्रा को इसी कड़ी में जोड़कर देखा जा सकता है।
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आई एम ऍफ़) में भारत १० सदस्य देशो में सम्मिलित हो गया है। जिस भारत को अभी कुछ वर्ष पहले देश की अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए अपने सोने का रिजर्व भंडार विदेशों को गिरवी रखना पड़ा था, आज उसके पास अपना स्वयं का १८००० टन सोना है जो संपूर्ण विश्व का ११% से अधिक है। है न खुश होने की बात! भारत गरीबों का देश है मगर यहां दुनिया के सबसे बड़े और ज्यादा अमीर बसते हैं। स्विस बैंक एसोसिएशन ने खुलासा किया है कि उसके बैंकों में भारतियों के कुल ६५,२२३ अरब रूपये जमा हैं और इस मामले में हम भारतीय अव्वल हैं। स्विटजरलैंड तो केवल एक देश है, इसके अतिरिक्त भी कई देशों में भारतियों का काला धन जमा है। ये देश वे देश हैं जहां की सरकारें इस तरह की कमाई जमा करने के लिए प्रोत्साहन देती हैं। जाहिर है यह काला धन भ्रष्ट राजनीतिज्ञों, आई ए एस , आई पी एस जैसे अन्य प्रशासनिक अधिकारियों और उद्योगपतियों का ही होगा। यहां यह बताना तर्कसंगत होगा कि स्विस बैंको में जमा यह धन हमारे जी डी पी का ६ गुना है। अगर यह धन देशमें वापिस आ जाए तो देश की अर्थव्यवस्था और आम आदमी की बल्ले-बल्ले हो जाएगी। प्राप्त आंकड़ो के अनुसार भारत को अपने लोगों का पेट भरने और देश को चलाने के लिए ३ लाख करोड़ रूपये का कर्ज लेना पड़ता है। यही कारण है कि जहाँ एक ओर प्रति व्यक्ति आय बढ़ रही है वहीं प्रति भारतीय पर कर्ज की मात्रा भी बढती जा रही है । एक अरब से अधिक आबादी और ३७% गरीबी के बीच भारत के हर नागरिक पर लगभग ८५००/- रूपये का विदेशी कर्ज है। जी हां! भारत में अगर बच्चा जन्म लेता है तो वह ८५०० रूपये के विदेशी कर्ज से दबा होता है। यदि स्विस बैंको में जमा धन का ३०-३५ प्रतिशत भी देश में आ गया तो हमें आई एम एफ़ या विश्व बैंक के सामने कर्ज के लिए हाथ नहीं फ़ैलाने पड़ेंगे। यदि यह सारा धन भारत को मिल जाता है तो देश को चलाने के लिए बनाया जाने वाला बज़ट बिना टैक्स के ३० साल के लिए बनाया जा सकता है। स्विस बैंको में जमा धन का २५-३०% भी अगर देश को मिल जाए तो २० करोड़ नई नौकरियां पैदा की जा सकती हैं। यानी बहार ही बहार। पल भर में देश से गरीबी दूर।
बात तरक्की की रफ़्तार पर गर्वित होने की हो रही है तो यह भी जानते चलें कि अमेरिकी बिजनेस पत्रिका फ़ोर्ब्स के अनुसार २०० एशियाई कम्पनियों में ३९ भारतीय कंपनियों ने जगह बनाई है। इस सूची में सबसे ज्यादा ७१ कंपनियां चीन व हांगकांग की हैं। भारत दूसरे स्थान पर है। इसी क्रम में फोर्चून-५०० की सूची में भी ८ भारतीय कम्पनियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। भारतीय उद्योगपति धड़ाधड़ विदेशी कंपनियों को खरीद रहे हैं और दुनिया को बता रहे हैं की हम किसी से कम नहीं। अब कंपनियां और उद्योगपति कमा रहे हैं तो सरकार भी क्यों पीछे रहे। सरकार को जहाँ 3 जी स्पेक्ट्रम सेल से ६७,७१९ करोड़ की राशि मिली है तो ब्रॉड बैंड नीलामी से ३८००० करोड़ की कमाई हुई है। साथ में सरकार के मंत्रियों-संतरियों के हाथ भी तर हो गए वह अलग। और शराब से जो कमाई सरकार को होती है, उसे कौन नहीं जानता। उसको छोड़ा भी नहीं जा सकता। चाहे एक पूरी की पूरी पीढ़ी ही उसमे क्यों न डूब कर बर्बाद हो जाए।
कुछ महान व्यक्ति भी इस वर्ष में जोर-शोर से उभरे। भ्रष्टाचार में रिकार्ड तोड़ प्रदर्शन के लिए सबसे ऊपर रहे दूरसंचार मंत्री ए.राजा। २ जी स्पेक्ट्रम घोटाला (१.७६ लाख करोड़ रूपये) , सुरेश कलमाड़ी(कोमन वैल्थ गेम घोटाला) ,अशोक चौहान (मुख्य मंत्री -महाराष्ट्र, आदर्श सोसाइटी घोटाला) , एस येदुरप्पा (मुख्यमंत्री, कर्नाटक), सौमित्र सेन(पूर्व न्यायाधीश , कोलकोता हाईकोर्ट), ललित मोदी (पूर्व अध्यक्ष-आई पी एल ) शशि थरूर आदि-आदि। इन सभी महान आत्माओं को एक अरब से अधिक भारतीयों का कोटि-कोटि नमन। लेकिन कुछ ऐसे भी नाम रहे जिन्होंने विश्व मानचित्र पर अपने नाम के साथ-साथ अपने देश का नाम भी अंकित किया। इनमे प्रसिद्ध बांसुरी वादक श्री हरी प्रसाद चौरसिया (संगीत में योगदान के लिए फ़्रांस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'शेवेलियर डेंस ला आर्दरी देस आर्ट्स एंड देस लेटर्स') , मुकेश अंबानी 'एशिया सोसाइटी का ग्लोबल विजनअवार्ड', नंदन नीलेकनी-येल विश्वविद्यालय का सर्वोच्च सम्मान 'लीजेंड इन लीडरशिप', और नि:संदेह कॉमंवेल्थ और एशियन गेम्स में अपने बलबूते पर विजयी हुए। कुछ खिलाडी जिन्होंने हमें गर्वित होने का कुछ अवसर प्रदान किया। २०१० के जाते-जाते सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट मैचों में अपना ५० वा शतक ठोक कर दुनिया के नक़्शे पर नए चिन्ह अंकित कर दिए। लेकिन उनका महत्व इन ५० टेस्ट शतको से अधिक इसलिए है कि उन्होंने इससे पहले करोड़ो का ऑफर ठुकरा कर शराब के विज्ञापन में काम करने से इंकार कर दिया था। और इस लिए भी कि उनको संयुक्त राष्ट्र संघ पर्यावरण कार्यक्रम का नया सदभावना राजदूत बनाया गया है। इसके अतिरिक्त डॉक्टर तथागत तुलसी जिन्होंने महज २२ साल की उम्र में ही आई आई टी मुंबई में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर बनने का सबसे कम उम्र का रिकॉर्ड बनाया। डॉक्टर तुलसी ने पिछले दिनों इंडियन इंस्‍टीटयूट ऑफ़ साइंस, बेंगलुरु से पी.एच.डी.कर भारत का सबसे युवा पी एच डी होल्डर होने का रिकॉर्ड बनाया था। साथ ही उल्लेख किया जाना चाहिए प्रसिद्ध गणितज्ञ आंनंद का जिनके द्वारा स्थापित कोचिंग संस्थान सुपर-३० को अमेरिका की प्रतिष्ठित टाइम मैग्‍जीन ने एशिया का सर्वोत्तम स्कूल माना है। बीते वर्ष यहाँ के सभी ३० विद्यार्थी आई आई टी प्रवेश परीक्षा में सफल रहे थे। कभी पैसे की कमी के कारण उच्च शिक्षा के लिए निमंत्रण के बावजूद कैम्ब्रिज विश्वविधालय नहीं जा सके आनंद ने १९८६ में रामानुजम स्कूल ऑफ़ मैथ्स की स्थापना की, जहां निर्धन मेधावी बच्चों को निशुल्क शिक्षा दी जाती है। यहीं एक और नाम जो उम्मीद की कई अजीम किरणे एक साथ जगाता है , वह है विप्रो के अध्यक्ष अजीम प्रेमजी का। कार्पोरेट जगत के इस महारथी ने एक बार फिर दो अरब डॉलर मूल्य के शेयर अपने एक धर्मार्थ ट्रस्ट को दान कर दिए। इस धन से यह ट्रस्ट शिक्षा सेवाओं का विस्तार करेगा। क्या मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी, लक्ष्मी मित्तल, रूइया भाई , के पी सिंह और सुनील मित्तल तक यह समाचार नहीं पहुंचा होगा। ये लोग भी इस तरह का कुछ सोचेंगे या सिर्फ अपने साम्राज्‍य को अपने लिए ही बढ़ाने में लगे रहेंगे।
लौटकर एक बार फिर रुखसत होने को आतुर 2010 पर आते हैं। बढ़ते हुए लूट, हत्या , बलात्कार, हिंसा-प्रतिहिंसा, आतंकवाद और अलगाववाद की और लौटते हैं। क्या कुसूर है 2010 का! बोते क्या आ रहे है हम! फिर अच्‍छा काटने का सोचे भी किस उम्‍मीद से। स्वतंत्रता के बाद से ही निरंतर गिरने का सिलसिला जारी है। शिक्षा, स्वास्थ्य, नैतिकता, देश प्रेम ,संस्कृति , मर्यादा, संवेदना और करुणा आदि सारे मानवी मूल्य भूल गए हैं हम। हर मोर्चे पर विफल। जरा अपने बच्चों से पूछ कर देखें कि कितना जानते हैं वे महात्मा गाँधी, चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, रामप्रसाद बिस्मिल, सुभाष चंद बोस, गोपाल कृष्ण गोखले और लाला लाजपत राय के बारे में। महाराणा प्रताप, शिवाजी और रानी लक्ष्मी बाई तो इतिहास की परतों में कहीं बहुत दूर गुम हो गए हैं उनके लिए। राष्ट्रीय गीत और राष्ट्रीय गान में अंतर पता है उन्हें। अंतर नहीं पता, अर्थ ही पता है क्या। भौतिकवाद और आर्थिक समृद्धि की अंधी दौड़ में शामिल हम लोग आखिर क्या उदाहारण स्थापित कर रहें हैं नई पीढ़ी के सामने। रोल मॉडल कौन हैं उनके आज । 'आदर्श' शब्द अपना अर्थ तो खो ही चुका है, अब अपना अस्तित्व ही न खो बैठे। क्योंकि आज की पीढ़ी अपने रोल मॉडल इतिहास से नहीं वर्तमान से उठा रही है। ये वे चेहरे होते हैं जो आज तो चमकते दिखाई देते हैं लेकिन अगले ही पल उन्हें दरकते भी देर नहीं लगती। अपने बच्चों के लिए समय नहीं है आज हमारे पास। हां, सुख सुविधा के नाम पर सब कुछ देने को तैयार हैं हम उन्हें। कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से यह सब कुछ हासिल भी हो रहा है उन्हें,शायद कुछ ज्यादा ही; वह भी समय से पहले। यही कारण है कि अब न उनके पास धैर्य है, न संयम, और न ही सोचने समझने का समय। जो भी हासिल करना है, अभी हासिल करना है, एकदम, बिना समय गंवाए। और इस हासिल करने के बीच में जो भी आएगा, उसे हटा दिया जाएगा या मिटा दिया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर से लेकर राष्ट्रीय, सामाजिक और पारिवारिक स्तर तक एक अजीब सी आपाधापी मची हुई है और हम सब शामिल हैं इसमें। बड़े राष्ट्र अपने स्वार्थों के लिए छोटे राष्ट्रों को मोहरा बना रहे हैं तो देश में राजनितिक पार्टियां एक दूसरे की टांगे खींच रही हैं। सरकार संवेदनाशून्य और दायित्वहीन है तो विपक्ष दिग्भ्रमित। जनता इनके लिए खिलौने से बढ़कर कुछ नहीं। आज हम खेल रहे हैं कल तुम खेल सको तो खेल लेना। अपना स्वार्थ पहले है देश, समाज कहीं पीछे छूट गए हैं। अपने गिरेबान में झांकने की न जरूरत हैं, न फुर्सत है किसी को। हम से बड़ा संत कोई नहीं है और तुम से बड़ा भ्रष्टाचारी कोई नहीं, यही सिद्ध करने में लगे हैं सब। दामन दागदार हैं, चेहरे कालिख पुते, पर मान कैसे लें। तुम कौन से दूध के धुले हो जो मेरे दामन के दाग दिखा रहे हो। सब कुछ सामने है, स्पष्ट है पर स्वीकार कैसे कर लें। और यही सब आगामी पीढियां देख रही हैं, समझ रही हैं, सीख रही हैं। हम खुश हैं तरक्की कर रहे हैं न। विकासशील से विकसित देश में तब्दील होते जा रहे हैं। इतना कुछ दे कर जा रहा है तू हमें २०१०। शुक्रिया ....
शुभकामनाएं २०११ के लिए भी देना चाहता हूं , पिछले वर्षों की तरह इस बार भी। कुछ नैतिक मूल्य स्थापित हों, कुछ संवेदनाएं जागें। अन्याय, अनाचार पर कुछ अंकुश लगे, महंगाई कुछ कम हो। और इन दुआओं में कुछ असर है , थोड़ा सा यकीन भी आ जाए।

ये मंजिलों का सफ़र है यकीन तो आए
हंसी ख़ुशी की डगर है यकीन तो आए
मैं आज करता हूं तेरे लिए दुआ लेकिन
मेरी दुआ में असर है यकीन तो आए

और अंत में बकौल शाहिद मीर उस ऊपर वाले से सिर्फ इतनी चाह है २०११ में आपके और अपने लिए -

ऐ खुदा रेत के सहरा को समंदर कर दे
या छलकती हुई आंखों को ही पत्थर कर दे
और कुछ तो मुझे दरकार नहीं है लेकिन
मेरी चादर मेरे पाँवों के बराबर कर दे

16 comments:

प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल said...

अनिल जी बखूबी से आपने इस साल की खबर को शब्दो में हम लोगो के सामने रखा...आने वाले साल शायद कुछ परिवर्तन लाये.. इसी उम्मीद और आशा के साथ आप,इर्द-गिर्द परिवार, मित्रो को नये साल की शुभकामनाये!!!!
मुनव्वर राणा के शब्द :
ये सच है नफ़रतों की आग ने सब कुछ जला डाला
मगर उम्मीद की ठंडी हवायें रोज़ आती हैं

राज भाटिय़ा said...

आने वाले साल के बारे सोचे ओर इस साल से सवक ले, बहुत सुंदर लिखा. धन्यवाद

babanpandey said...

नए साल ki बधाई //

PN Subramanian said...

विस्तृत परन्तु वर्ष २०१० की सुन्दर समीक्षा. आने वाला वर्ष कुछ नैतिक मूल्य प्रदान करे इसी अपेक्षा से उसका स्वागत करते हैं.

अनिल अञि said...

कुछ ऐसे मसले उठाए हैं जो हमें नए साल में भी विचार करने को मजबूर करते रहेंगे....

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

आने वाले वर्ष में आप सक्रिय और सार्थक लेखन करें तथा यश और कीर्ति अर्जित करें, हमारी यही कामना है।

---------
अंधविश्‍वासी तथा मूर्ख में फर्क।
मासिक धर्म : एक कुदरती प्रक्रिया।

डा. अरुणा कपूर. said...

बहुत अच्छी और विस्तृत जान्कारी दी है आपने...नए साल की शुभ कामनाएं!

अविनाश वाचस्पति said...

ऐसे साल का तो जाना ही अच्‍छा

बलराम अग्रवाल said...

सही समय पर सशक्त रिपोर्ट प्रकाशित की है। भ्रष्टाचार इस देश की शायद जरूरत बन गया है। कोई नहीं चाहता फिर भी फँस जाता है इस दलदल में। चलिए, चार दिन बाद शुरू हो रहे 2011 का आशावादी भाव से स्वागत कीजिए।

PN Subramanian said...

सुन्दर आलेख. नव वर्ष आपके लिए मंगलमय हो.

खबरों की दुनियाँ said...

अच्छी पोस्ट , नववर्ष की शुभकामनाएं । "खबरों की दुनियाँ"

Er. सत्यम शिवम said...

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए...

*काव्य- कल्पना*:- दर्पण से परिचय

*गद्य-सर्जना*:- पुराने साल की कुछ यादें

diben said...

मित्रों आजकल नरक कि सैर पर हूं इसलिये आपको समय पर नये वर्ष कि बधाई नहीं दे पाया!.....नरक के अपने अनुभव बाद में विस्तार से सुनाउंगा!

diben said...

मित्रों आजकल नरक कि सैर पर हूं इसलिये आपको समय पर नये वर्ष कि बधाई नहीं दे पाया!.....नरक के अपने अनुभव बाद में विस्तार से सुनाउंगा!

diben said...

मित्रों आजकल नरक कि सैर पर हूं इसलिये आपको समय पर नये वर्ष कि बधाई नहीं दे पाया!.....नरक के अपने अनुभव बाद में विस्तार से सुनाउंगा!

Amit K Sagar said...

बहुत सुन्दर अभिव्यक्त किया है.
-
सपरिवार आपको नव वर्ष की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं.
नव वर्ष २०११ और एक प्रार्थना

तकनीकी सहयोग- शैलेश भारतवासी

Back to TOP