Friday, August 31, 2018

भुट्टे का स्वाद बारिश में लाजवाब Enjoy eating corn in the rains





भुट्टा यानी कॉर्न। कहीं कहते हैं
चोलम तो कहीं छल्ली या चल्ली तो अंग्रेजी में कॉर्न या मेज। नाम कुछ भी हो लेकिन
भुट्टा जितना स्वादिष्‍ट होता है उतना ही गुणकारी भी। बारिश में इसे हल्की आग पर
भून कर जब नींबू के साथ नमक लगाकर खाया जाता है तो इसका जायका आनंदित कर देता है।
इसे भून कर खाया जाए या उबाल कर लेकिन इसके अंदर छिपे पोष्टिक पदार्थ सेहत के लिए
बहुत फायदेमंद होते हैं। लाभकारी भुट्टा या मकई कभी स्वीट कॉर्न बन जाता है तो कभी
पॉपकॉर्न लेकिन इसके गुण कभी कम नहीं होते। मोटे अनाज की श्रेणी में आने वाली
मक्का में छिपे एंटी ऑक्सीडेंट आपकी त्वचा को बुढ़ापे में भी जवान रखते हैं। इसमें
मौजूद विटामिन बी और फालिक एसिड आपमें रक्त की कमी नहीं होने देता यानी आप एनीमिक
हैं तो भुट्टा फायदा देगा। मक्कई यानी कॉर्न आपके दिल के लिए मुफीद है। इसका
विटामिन सी और कैरोटीनॉयड आपकी ध्वनियों में रक्त संचार को सहज रखता हैं क्योंकि
खून में कोलेस्ट्राल की मात्रा इसे खाने से कम होती है। यदि गर्भवती महिला इसका
सेवन करें तो फॉलिक एसिड गर्भ में बच्चे का वजन कम नहीं होने देता। पर इसका ध्यान
रखना चाहिए कि संतुलित मात्रा में ही इसका सेवन करें और इसे खाने के तत्काल बाद
पानी पीने से परहेज करें, वरना आपके पेट में कुछ दिक्कते भी हो सकती हैं।
इर्द-गिर्द में इस बार हम लाए हैं भुट्टे की नयनाभिराम वीडियो के साथ हरि विश्‍नोई
की कविता- कॉर्न विद हैंडल लाना जी
….


भुट्टा...बहुत सुहाना जी,
चमके हर एक दाना जी।

हरी थी ...मैं ...भरी थी,
गाना यही ..सुनाना जी।

लाख मोती...जड़ी थी,
भुट्टा मुझे दिखाना जी।

सुनी...पहेली बचपन में,
फिर से उसे बुझाना जी।

भरा हुआ भुट्टे में देखो,
मोती जैसा.. दाना जी।

दाने इसके...बहुत नरम,
जरा धीरे धीरे खाना जी।

इसका स्वाद है बारिश में,
नींबू नमक ...लगाना जी।

धीमी आंच में सेंक जरा,
तभी मज़ा है आना जी।

देसी भुट्टा..... देस का है,
अमरीका ने ...माना जी।

नेपकिन चढ़ा नफ़ासत से,
कॉर्न तो महंगा आना जी।

लड़की बोली..सुनो सनम,
कॉर्न विद हैंडल लाना जी।

भुट्टे ...के... दाने... कहते,
मिल कर मौज मनाना जी

अलग हुए बिखरे गर तुम,
मक्का सिर्फ कहाना तुम।

कॉर्न...विदेशी... रैपर...है,
अलग ही रूप दिखाना तुम।

भुट्टे...की....शोभा... न्यारी,


इसका..गुर...अपनाना तुम।

1 comment:

सुशील कुमार जोशी said...

वाह बहुत सुन्दर।

तकनीकी सहयोग- शैलेश भारतवासी

Back to TOP